संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
19 Sep 2019 5:44 PM
BREAKING NEWS
ticket title
Coal India 9,000 बहाली करेगी, एग्जिक्युटिव लेवल 4,000 नियुक्तियां होगी
डिफेंस मिनिस्टर ने तेजस से उड़ान भरी, कहा- अद्भुत और शानदार अनुभव
‘कहो ना प्यार है’ को पिछले 20 सालों की बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड
बिहार: हिंसक हिसक झड़प मामले में पटना यूनिवर्सिटी के 28 स्टूडेंट जेल भेजे गये, 15 आरोपितों की तलाश
डीसी लाइन पर जल्द चलेगी धनबाद-चंद्रपुरा पैसेंजर
ममता बनर्जी ने अमित शाह से की मुलाकात, कहा-NRC सूची से बाहर लोगों को एक मौका और मिले
यूपी में नाबालिग मुस्लिम लड़की की शादी पर सुप्रीम कोर्ट नाराज,राज्य के गृह सचिव को तलब किया
बालाकोट सेक्टर में मिले 9 जिंदा मोर्टार, भारतीय सेना ने किया निष्क्रिय
सुरक्षाबलों ने घाटी में 273 आतंकियों पर साधा निशाना, दहशतगर्दों की सूची आई सामने
तिहाड़ जेल भेजा में चिदंबरम के बाद कर्नाटक कांग्रेस के नेता डीके शिवकुमार

चीन को काउंटर करने के लिए इंडिया अहम अंडमान-निकोबार द्वीप में खोलेगा तीसरा नेवी बेस

Post by relatedRelated post

नई दिल्ली: इंडियन नेवी हिंद महासागर में प्रवेश करने वाले चीन के जहाजों और पनडुब्बियों पर नजर रखने के लिए रणनीतिक रूप से अहम अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में गुरुवार को अपना तीसरा नेवी बेस खोलेगा. आर्मी अफसरों का कहना है कि इस बेस से नजदीकी मलक्का जलडमरू मध्य से होकर हिंद महासागर में प्रवेश करने वाली चीनी पनडुब्बियों और जहाजों की निगरानी की जा सकेगी.

चीनी नौसेना की भारत के पड़ोस में मौजूदगी पर नई दिल्ली सतर्क है. इसके अलावा, चीन श्री लंका से लेकर पाकिस्तान तक कमर्शल पोर्ट्स का नेटवर्क बना रहा है. भारत इसे कर्मशल के बजाय चीन के सैन्य प्रॉजेक्ट के तौर पर देखता है क्योंकि नई दिल्ली को आशंका है कि चीन इन पोर्ट्स का अपनी नेवी के लिए इस्तेमाल कर सकता है. चीन की चुनौतियों को काउंटर करने के लिए भारतीय मिलिटरी लंबे समय से अंडमान पर फोकस कर रही है जो मलक्का जलडमरूमध्य के प्रवेश मार्ग के नजदीक स्थित है. पीएम नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2014 में जब से सत्ता संभाली है तब से भारत ने और मजबूत नीति के तहत यहां जहाजों और एयरक्राफ्टों को तैनात किया है.

नेवी ने एक बयान में बताया कि नए बेस आईएनएस कोहासा को नवी चीफ ऐडमिरल सुनील लांबा नेवी को समर्पित करेंगे. यह पोर्ट ब्लेयर से करीब 300 किलोमीटर उत्तर में स्थित है. यह अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में नेवी का तीसरा बेस है. इस बेस पर 1,000 मीटर लंबा रनवे है जिसका इस्तेमाल हेलिकॉप्टरों और डोर्नियर सर्विलांस एयरक्राफ्टों के लिए होगा. नेवी के प्रवक्ता कैप्टन डी. के. शर्मा ने बताया कि रनवे को बढ़ाकर 3,000 मीटर करने की योजना है ताकि यह युद्धक विमानों के लिए भी इस्तेमाल हो सके. हर साल करीब 1 लाख 20 हजार जहाज हिंद महासागर से होकर गुजरते हैं और उनमें से करीब 70,000 मलक्का जलडमरूमध्य से होकर जाते हैं. पूर्व नेवी कमोडोर अनिल जय सिंह ने बताया कि चीन की मौजूदगी लगातार बढ़ रही है. अगर हमें वाकई चीनी मौजूदगी पर नजर रखनी है तो हमें अंडमान द्वीप में पर्याप्त तैयारी करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि अगर आपके पास एयर बेस हैं तो आप बड़े इलाके को कवर कर सकेंगे. सिंह ने उम्मीद जताई कि अगले चरण में नेवी यहां और ज्यादा जहाजों को स्थायी तौर पर तैनात करेगी.

हिंद महासागर में चीन की गतिविधियों को लेकर भारत काफी सतर्क है. वर्ष 2014 में चीन की पनडुब्बी श्री लंका के कोलंबो पोर्ट पर खड़ी थी. मोदी सरकार ने तत्काल श्री लंकाई अधिकारियों के सामने यह मुद्दा उठाया था. भारत क्षेत्र में चीन के विस्तारवादी कूटनीति को काउंटर करने की कोशिश कर रहा है. दरअसल, चीन क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने की आक्रामक नीति पर चल रहा है. भारत के रक्षा अफसरों की इसी हफ्ते मालदीव की रक्षा मंत्री मारिया अहमद दीदी से बातचीत होनी है. मालदीव में पिछले साल चुनाव में चीन-समर्थक सरकार की विदाई के बाद नई दिल्ली रणनीतिक तौर पर अहम इस छोटे से द्वीपीय देश से रिश्तों को फिर मजबूत करने की कोशिश में है.

मनोंरजन / फ़ैशन

‘कहो ना प्यार है’ को पिछले 20 सालों की बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड
‘कहो ना प्यार है’ को पिछले 20 सालों की बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड

मुंबई: बॉलीवुड के सबसे बड़े अवॉर्ड्स में से एक इंटरनेशनल इंडियन फिल्म अकेडमी अवॉर्ड्स (IIFA अवॉर्ड्स) की बुधवार 18 सितंबर की रात मुंबई में हुए रंगारंग समारोह में घोषण की गयी. 'कहो ना प्यार है' को पिछले 20 सालों की बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड दिया गया. ईफा ने 20 साल पूरे होने का जश्न मनाया.…

Read more

अन्य ख़बरे

Loading…

sandeshnow Video


Contact US @

Email: [email protected]

Phone: +9431124138

Address: Dhanbad, Jharkhand

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com