संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
15 Aug 2022 5:44 PM
BREAKING NEWS
ticket title
धनबाद में दो अतिरिक्त कोविड अस्पताल को मिली मंजूरी, पीएमसीएच कैथ लैब में दो सौ बेड का होगा कोविड केयर सेंटर
सांसद पुत्र के चालक की कोरोना से मौत, 24 घंटे में दो मौत से मचा हड़कंप
बेरमो से हॉट स्पॉट बने जामाडोबा तक पहुंचा कोरोना ! चार दिन में मिले 34 कोविड पॉजिटीव
विधायक-पूर्व मेयर की लड़ाई की भेंट चढ़ी 400 करोड़ की योजना
वाट्सएप पर ही पुलिसकर्मियों की समस्या हो जाएगी हल, एसएसपी ने जारी किया नंबर
CBSE की 10वीं और 12वीं परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे
डीजल मूल्यवृद्धि का असर कहां,कितना,किस स्तरपर,किस रूप में पड़ेगा- पढ़े रिपोर्ट
झरिया विधायक से मिलने पहुंचे छोटे व्यवसायियों
पेट्रोलियम पदार्थ को लेकर झामुमो द्वारा विरोध प्रदर्शन
बिहार में आंधी-बारिश, ठनका गिरने से 83 लोगों की मौत

फांसी की सजा से जुड़े कुछ तथ्य बताने जा रहे हैं, Tell some facts related to the death penalty.

Post by relatedRelated post

आपने अक्सर फिल्मों में देखा होगा की कोर्ट वाले सीन में जज जब फांसी की सजा का फैसला सुनाते हैं तो उसके बाद अपनी कलम की निब को तोड़ देते हैं. क्या आपको पता है कि ऐसा क्यों किया जाता है? कानून में ऐसा कोई प्रावधान या नियम नहीं है जिसमें जज का निब तोड़ना जरुरी हो लेकिन भावनात्‍म और प्रतिकात्‍मक रूप से ऐसी कलम जिसने किसी की मौत लिखी हो उससे वापस उपयोग नहीं करने के लिए निब को तोड़ा जाता है.

क्यों तोड़ी जाती है पेन की निब

बता दें कि भारतीय दंड संहिता की धारा 302 में मौत की सजा का प्रावधान है ऐसे मामले की सुनवाई डीजे स्‍तर के न्‍यायिक अधिकारी ही सुन सकते हैं सामान्‍यत: न्‍यायिक अधिकारी जीवन के लिए फैसला देते हैं. लेकिन जब उनको किसी के जीवन लेने का फैसला पर हस्‍ताक्षर करना होता है तो उस कलम या पेन का दुबारा उपयोग नहीं करे इसी मकसद से निब को तोड़ा दिया जाता है. फांसी देते वक्त जेल अधीक्षक, एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट, डॉक्टर और जल्लाद का होना जरूरी है.

रेयरेस्ट ऑफ रेयर मामलों में होती है फांसी

सुप्रीम कोर्ट ने 1983 में कहा था कि रेयरेस्ट ऑफ रेयर मामलों में ही फांसी की सजा दी जा सकती है. निचली अदालतों में फांसी की सजा मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट में अपील की जा सकती है. सुप्रीम कोर्ट भी फांसी की सजा पर मुहर लगा दे तो फिर राष्ट्रपति से दया की अपील की जा सकती है. अगर राष्ट्रपति भी अपील को खारिज कर दे तो फांसी दे दी जाती है.

जल्लाद कैदी के कान में क्या कहता है ?

फांसी देते वक्त जल्लाद कैदी के कान में कहता है कि ‘मुझे माफ कर दो. मैं हुक्म का गुलाम हूं. मेरा बस चलता तो आपको जीवन देकर सत्य मार्ग पर चलने की कामना करता’.

सुबह होने से पहले क्यों देते हैं फांसी

ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि फांसी की वजह से दूसरे कैदी और काम प्रभावित न हो. सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश के मुताबिक जिस कैदी को फांसी दी जाती है उसके घरवालों को फांसी की तारीख से 15 दिन पहले खबर देना जरूरी है.

कैदी को जिस फंदे पर लटकाया जाता है वो सिर्फ बिहार के बक्सर जेल में कुछ कैदियों द्वारा तैयार किया जाता है. अंग्रेजों के जमाने से ही ऐसी व्यवस्था चली आ रही है. मनीला रस्सी से फांसी का फंदा बनता है. दरअसल, बक्सर जेल में एक मशीन है जिसकी मदद से फांसी का फंदा बनाया जाता है. आखिरी इच्छा पूछे बगैर किसी कैदी को फांसी नहीं दी जा सकती है. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक, साल 2004 से 2013 के बीच भारत में 1,303 लोगों को फांसी की सज़ा सुनाई गई.

मनोंरजन / फ़ैशन

रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप
रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप

धोखाधड़ी का यह मामला साल 2016 का बताया गया है एक प्रॉपर्टी डीलर ने रेमो डिसूजा पर 5 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया था सेक्शन 420, 406, 386 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई गाजियाबाद । डांस की दुनिया के ग्रेंड मास्टर में शुमार मशहूर कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा के लिए एक बुरी…

Read more

अन्य ख़बरे

Loading…

sandeshnow Video


Contact US @

Email: swebnews@gmail.com

Phone: +9431124138

Address: Dhanbad, Jharkhand

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com