संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
25 Oct 2020 5:44 PM
BREAKING NEWS
ticket title
धनबाद में दो अतिरिक्त कोविड अस्पताल को मिली मंजूरी, पीएमसीएच कैथ लैब में दो सौ बेड का होगा कोविड केयर सेंटर
सांसद पुत्र के चालक की कोरोना से मौत, 24 घंटे में दो मौत से मचा हड़कंप
बेरमो से हॉट स्पॉट बने जामाडोबा तक पहुंचा कोरोना ! चार दिन में मिले 34 कोविड पॉजिटीव
विधायक-पूर्व मेयर की लड़ाई की भेंट चढ़ी 400 करोड़ की योजना
वाट्सएप पर ही पुलिसकर्मियों की समस्या हो जाएगी हल, एसएसपी ने जारी किया नंबर
CBSE की 10वीं और 12वीं परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे
डीजल मूल्यवृद्धि का असर कहां,कितना,किस स्तरपर,किस रूप में पड़ेगा- पढ़े रिपोर्ट
झरिया विधायक से मिलने पहुंचे छोटे व्यवसायियों
पेट्रोलियम पदार्थ को लेकर झामुमो द्वारा विरोध प्रदर्शन
बिहार में आंधी-बारिश, ठनका गिरने से 83 लोगों की मौत

नीरज सिंह हत्याकांड: अनुसंधान में मिले हैं पर्याप्त साक्ष्य, कसेगा शिकंजा

Post by relatedRelated post

पुलिस फाइल में पंकज सिंह मास्टरमाइंड

नीरज हत्याकांड : सिंह पंकज सिंह के खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी

धनबाद. अब तक का पुलिस अनुसंधान कहता है कि पंकज वही शख्स है जिसने नीरज की हत्या के लिए यूपी से सुपारी देकर चार शूटरों को धनबाद बुलाया था. शूटरों को हथियार उपलब्ध कराने, हत्या की योजना बनाने, शूटरों को जाली मोबाइल सीम उपलब्ध कराने, कुसुम विहार में किराये के मकान में ठहराने, बाइक उपलब्ध कराने, हत्या के लिए चारों को हथियार उपलब्ध कराने, हत्या के बाद हथियार वापस लेने व शूटरों को भगाने में मदद करने का आरोप है.
नीरज हत्याकांड में पुलिस गिरफ्त में आने वाले शूटरों ने पंकज के बुुलावे पर धनबाद आने, पंकज द्वारा हथियार व पैसा उपलब्ध कराये जाने, पंकज से शूटरों की मोबाइल पर बातचीत का कॉल डिटेल भी पुलिस के पास है. पुलिस दबिश, विरोधी गुट के अपराधियों के पीछे पड़ने, नीरज हत्याकांड में कुर्की होने के भय से पुराने मामले में उसने सुल्तानपुर कोर्ट में 14 सितंबर को सरेंडर किया. पुलिस सूत्रों का कहना है कि पंकज शातिर अपराधी है और वह आसानी से राज उगलने वाला नहीं. पुलिस को यह भी शक है कि अपने आका के इशारे पर वह हत्याकांड को नया मोड़ देना चाहता है ताकि अदालत में लाभ लिया जा सके. लेकिन पुलिस उसके मंसूबे को सफल नहीं हो ने देगी.

कौन है पंकज
पंकज को यूपी के माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का शार्प शूटर बताया जाता है. आरोप है कि संतोष उर्फ नामवर वह शख्स है जो पंकज को धनबाद लेकर आया था. रंजय, पंकज व नामवर में गहरी छनती थी. रंजय की हत्या के बाद नीरज की हत्या के लिए दिल्ली के सोनू व मोनू नामक शूटरों को पंकज ने धनबाद बुलाया था. दोनों शूटर योजना में सफल नहीं हुए और लौट गये. इसके बाद यूपी के अमन सिंह, कुर्बान अली उर्फ सोनू, विजय सिंह उर्फ शिबू उर्फ सागर सिंह व चंदन सिंह उर्फ रोहित उर्फ सतीश को पंकज ने हायर किया. चारों को हत्या के बदले लाखों रुपये देने की बात कही गयी थी. शूटरों को पंकज ने राह खर्च के अलावा चंद रुपये ही दिये. पंकज पहले झरिया से यूपी कोयला ले जाता था. आरोप है कि रंजय के माध्यम से वह सिंह मैंशन के करीब आया था.

नीरज हत्याकांड की जांच में पुलिस का दावा है कि पंकज बराबर धनबाद आता रहा है. रंजय की हत्या से 10 दिन पहले यानी 19 जनवरी तक पंकज का मोबाइल लोकेशन धनबाद स्टील गेट है. पंकज का मोबाइल लोकेशन वर्ष 2014 में भी धनबाद व झरिया था. आरोप है कि रंजय की हत्या के बाद 16 फरवरी से 19 फरवरी तक वह धनबाद में सिंह मैंशन में था. पंकज 21 फरवरी को अपने पैतृक गांव लंभुआ चला गया. पंकज वापस फिर एक मार्च को धनबाद आया और छह मार्च तक कुसुम विहार में राम अह्लाद राय के मकान में था. मकान को डब्लू मिश्रा ने शूटरों को ठहराने के लिए किराये पर लिया था. वह सात मार्च से 16 मार्च तक लंभुआ अपने घर पर था. होली में पंकज अपने घर गया था. वह 17 से 21 मार्च तक धनबाद में था. पुलिस डायरी में पंकज का मोबाइल लोकेशन इस दौरान सिंह मैंशन बताया गया है.

मोबाइल लोकेशन से खुलासा : शूटरों ने जो पुलिस को बयान दिये हैं, उसका सत्यापन पंकज के मोबाइल लोकेशन से हो रहा है. मोबाइल लोकेशन के अनुसार पंकज 23 मार्च को कोलकाता में था. वह 24 मार्च को अमृतसर मेल से हावड़ा से बनारस गया. नीरज सिंह की हत्या में प्रयुक्त मोबाइल 9936887360 से ट्रेन में खाना का अॉर्डर किया था. जौनपुर रामपुर निवासी धीरज गुप्ता के आइडी से पंकज के नाम आइआरसीटीसी में अमृतसर मेल ट्रेन का टिकट बुक था. ट्रेन का किराया धीरज के कोटक महेंद्रा बैंक खाते से भुगतान हुआ है. शूटर शिबू व कुर्बान ने पुलिस को बताया था कि पंकज 23 मार्च को कोलकाता में था.

फ्लैश बैक
पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह समेत चार लोगों को 21 मार्च 17 को स्टील गेट के समीप गोलियों से भून दिया गया था. मामले में नीरज के अनुज अभिषेक सिंह उर्फ गुड्डू ने विधायक संजीव सिंह, मनीष सिंह, पिंटू सिंह, गया सिंह व महंथ पांडेय के खिलाफ षडयंत्र कर हत्या करने का आरोप लगाया था. पुलिस छानबीन में विधायक के निजी बॉडी गार्ड धनंजय सिंह, अनुसेवक संजय सिंह (रंजय सिंह का भाई), डब्लू मिश्रा की संलिप्तता के साक्ष्य मिले. धनजी, संजय व पिंटू को पुलिस ने 30 मार्च को जेल भेजा था. विधायक व संजीव व डब्लू मिश्रा को 11 अप्रैल को जेल भेजा गया था. पुलिस मामले में विधायक संजीव सिंह, उनके निजी बॉडी गार्ड धनजी सिंह, अनुसेवक संजय सिंह, जैनेद्र सिंह उर्फ पिंटू सिंह, डब्लू मिश्रा, शूटर अमन सिंह, कुर्बान अली उर्फ सोनू, विजय सिंह उर्फ शिबू उर्फ सागर सिंह व चंदन सिंह उर्फ रोहित उर्फ सतीश, बिनोद सिंह के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. संजीव रांची के होटवार जेल तथा अन्य सभी धनबाद जेल में बंद हैं.

मनोंरजन / फ़ैशन

रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप
रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप

धोखाधड़ी का यह मामला साल 2016 का बताया गया है एक प्रॉपर्टी डीलर ने रेमो डिसूजा पर 5 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया था सेक्शन 420, 406, 386 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई गाजियाबाद । डांस की दुनिया के ग्रेंड मास्टर में शुमार मशहूर कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा के लिए एक बुरी…

Read more

अन्य ख़बरे

Loading…

sandeshnow Video


Contact US @

Email: swebnews@gmail.com

Phone: +9431124138

Address: Dhanbad, Jharkhand

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com