संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
20 Oct 2020 5:44 PM
BREAKING NEWS
ticket title
धनबाद में दो अतिरिक्त कोविड अस्पताल को मिली मंजूरी, पीएमसीएच कैथ लैब में दो सौ बेड का होगा कोविड केयर सेंटर
सांसद पुत्र के चालक की कोरोना से मौत, 24 घंटे में दो मौत से मचा हड़कंप
बेरमो से हॉट स्पॉट बने जामाडोबा तक पहुंचा कोरोना ! चार दिन में मिले 34 कोविड पॉजिटीव
विधायक-पूर्व मेयर की लड़ाई की भेंट चढ़ी 400 करोड़ की योजना
वाट्सएप पर ही पुलिसकर्मियों की समस्या हो जाएगी हल, एसएसपी ने जारी किया नंबर
CBSE की 10वीं और 12वीं परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे
डीजल मूल्यवृद्धि का असर कहां,कितना,किस स्तरपर,किस रूप में पड़ेगा- पढ़े रिपोर्ट
झरिया विधायक से मिलने पहुंचे छोटे व्यवसायियों
पेट्रोलियम पदार्थ को लेकर झामुमो द्वारा विरोध प्रदर्शन
बिहार में आंधी-बारिश, ठनका गिरने से 83 लोगों की मौत

धनबाद में खादी और खाकी के बेजोड़ मेल से शुरू है कोयला का अवैध ध‍ंधा, बंगाल से प्रतिदिन 4000 टन कोयला पहुंच रहा है धनबाद

Post by relatedRelated post

धनबाद में खादी और खाकी के बेजोड़ मेल से शुरू है कोयला का अवैध ध‍ंधा
खा दी (राजनेता) और खाकी (पुलिस) के बेजोड़ मेल के कारण अरसे बाद धनबाद जिले में डंके की चोट पर कोयला तस्करी शुरू है. अरसे बाद इतने बड़े पैमाने पर धनबाद कोयलांचल में कोयला का अवैध धंधा चल रहा है. बाघमारा, बरवाअड्डा से लेकर निरसा तक और झरिया कोयलांचल का शायद ही कोई इलाका हो, जहां अवैध कोयला कारोबार नहीं चल रहा हो. आउटसोर्सिंग परियोजनाओं से हाइवा-का-हाइवा कोयला गायब कराना, बीसीसीएल व इसीएल की बंद पड़ी असुरक्षित खदानों से अवैध खनन कराना, स्थानीय गरीब ग्रामीणों द्वारा विभिन्न खनन परियोजनाओं से चुन कर अथवा चोरी कर साइकिल के माध्यम से लाये जानेवाले कोयला को जमा कराना समेत विभिन्न हथकंडों से कोयला तस्करी जारी है. राजनेताओं से लेकर जनप्रतिनिधि, पुलिस से लेकर सीआइएसएफ और बीसीसीएल के अधिकारी तक इस गोरखधंधे में बेखौफ शामिल हैं. अवैध कारोबार में जुटे विभिन्न सिंडिकेट से प्रतिमाह करीब 50 लाख रुपये की वसूली की चर्चा है. यह भारी-भरकम राशि धनबाद से लेकर राजधानी रांची तक पुलिस-प्रशासन के छोटे-बड़े अधिकारियों के नाम पर वसूली जा रही है. झारखंड की पूर्व सरकार (हेमंत सोरेन की सरकार) में कोयला के अवैध कारोबार के खिलाफ जमीन-आसमान एक कर देनेवाले भाजपा नेता आज मौन हैं. धनबाद के एसपी पद पर सुमन गुप्ता से लेकर रविकांत धान के समय तक कोयला तस्करी पर जिस तरह रोक लगी रही, उसे बरकरार रखने में वर्तमान एसएसपी विफल माने जा रहे हैं.

बेखौफ जारी है कोयला का अवैध कारोबार
धनबाद जिले की चारों दिशाओं में एक साथ कोयला का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है. एक अनुमान के मुताबिक जिले के विभिन्न हिस्सों से प्रतिदिन करीब दो करोड़ रुपये का अवैध कोयला कारोबार हो रहा है. बाघमारा से बरवाअड्डा और निरसा तक धड़ल्ले से जारी कोयला के अवैध धंधे में सत्ताधारी दल और विपक्षी दलों के कई राजनेताओं, उनके रिश्तेदारों और उनके समर्थकों की एक बड़ी जमात शामिल है. इतने बड़े पैमाने पर जारी इस अवैध कोयला कारोबार में पुलिस महकमे के कई बड़े अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त होने की बात से इनकार नहीं किया जा सकता. साथ ही बीसीसीएल के विभिन्न कोलियरी क्षेत्रों के कोयला अधिकारियों की भी इस काले धंधे में संलिप्तता है.
बाघमारा में ‘लूट’ की पूरी ‘छूट’
बाघमारा कोयलांचल में तो मानो कोयला की लूट की पूरी छूट मिल चुकी है. गजलीटांड़, मुराईडीह, सोनारडीह, तेतुलमारी, शताब्दी परियोजना क्षेत्रों समेत आस-पास के सभी इलाकों में डंके की चोट पर कोयला कारोबार चल रहा है. खास बात यह कि यहां एक नंबर के पेपर पर प्रतिदिन 50-60 हाइवा कोयला लोड होकर निकलता है. इन हाइवा पर लोड कोयला निर्धारित गंतव्य के बजाय सीधे दुगड़ा (पुरुलिया, पश्चिम बंगाल) में जाकर कोयला गिराते हैं. फिर नगद पैसे लेकर वापस लौटते हैं और अपने आकाओं को पैसा थमाते हैं. फिर ये सभी ड्राइवर उसी एक नंबर के कागज पर पुन: कोलियरियों के लोडिंग प्वाइंट पर जाकर कोयला लोड कराकर निकलते हैं और निर्धारित गंतव्य पर जाकर कोयला गिराते हैं. यानी एक हाइवा एक ही कागज पर दो बार कोयला ढ़ोता है. पहला ट्रिप अवैध धंधे के लिए और दूसरा ट्रिप निर्धारित डंपिंग प्वाइंट के लिए.

‘बरवाअड्डा’ बना कोयला के अवैध धंधा का ‘अड्डा’
सत्ता व शासन-प्रशासन के संरक्षण में कोयला का अवैध कारोबार बरवाअड्डा थाना क्षेत्र के लिए कोई नयी बात नहीं है. झामुमो की सरकार में डंके की चोट पर कोयला का अवैध कारोबार होता रहा. इधर, फिर से बेरोक-टोक कोयला का काला धंधा चल रहा है. बरवाअड्डा थाना क्षेत्र में हाल के दिनों में कोयला के अवैध धंधा का ‘अड्डा’ बन गया है. लोहार बरवा के एक हार्डकोक भट्ठा में रात के अंधेरे में जम कर कोयला की हेराफेरी का खेल चल रहा है. इसमें एक भाजपा नेता के परिजन शामिल हैं. स्थानीय ग्रामीणों द्वारा इसकी सूचना पुलिस को देने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है.
बीसीसीएल की परियोजनाओं से चोरी का कोयला
बताते हैं कि बीसीसीएल के एरिया छह की गोंदूडीह व इस्ट बसुरिया कोलियरी-परियोजना, एरिया तीन व चार सिजुअा व गोविंदपुर क्षेत्रों की विभिन्न परियोजनाओं से चोरी का कोयला साइकिल के माध्यम से हर रोज लाेहार बरवा मंडल टोला लाया जाता है. यहां कोयला जमा करने के बाद के रात के अंधेरे में ही ट्रक से उसे मंडियों में भेज दिया जाता है. जीटी रोड से महज सौ-डेढ़ सौ मीटर दूरी रहने के कारण ट्रक से माल डिस्पैच करने में कोई दिक्कत नहीं होती है. लोकल या जीटी रोड पर पड़ने वाले थानों की पुलिस के बूते की बात नहीं है कि वह उन ट्रकों को रोकने की हिमाकत करे. यह खेल रात लगभग 10 बजे से शुरू हो जाता है और पौ फटने से पहले खत्म हो जाता है.

प्राइवेट गार्ड तक तैनात
बरवाअड्डा थाना क्षेत्र के लोहार बरवा क्षेत्र में ‘वी मंडल’ पूरी दबंगई के साथ पूरे इलाके में कोयला का अवैध धंधा बड़े पैमाने पर कर रहा है. उसने अवैध डिपो तक पहुंचाने वाले रास्ते पर अपने प्राइवेट गार्ड तक तैनात कर रखा है. इस डिपो पर आसपास के क्षेत्रों से अवैध खनन का कोयला साइकिलों पर होकर पहुंचता है. इसके अलावा मेन रोड से होकर गुजरने वाले कोयला लदे हाइवा के चालक 400-500 रुपये की लालच में डिपो के आस-पास हाइवा खड़ा कर देते हैं और चाय-पानी पीते हैं. इस दौरान सभी हाइवा से एक-डेढ़ टन कोयला गिरा लिया जाता है.

1000 साइकिलें आती हैं
सूत्रों का दावा है कि भूली, गोंदूडीह, कतरास से लगभग 1000 साइकिलें कोयला लाद कर हर रोज यहां अाती हैं. पुलिस यदि अॉन स्पॉट कार्रवाई नहीं करती है, तो सुबह होते-होते कोयला का एक रोड़ा में अापको नहीं दिखेगा. निकट में चिमनी ईंट का भट्टा रहने के कारण लगेगा कि सारा मामला व्यावसायिक है. एक पुलिस अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि ‘हमारे बूते की बात नहीं है कि बरवाअड्डा में धड़ल्ले से हो रही कोयला चोरी को रोक सकें. साहब लोगों को भी सारी बातों की जानकारी है, मगर उनके हाथ कहां से बंधे हुए हैं, वही जानें.’ सिजुअा शक्ति चौक, भूली बस्ती, गोंदूडीह के धौड़ों से रोज लोडेड साइकिलें अाती हैं. हर क्षेत्र की पुलिस देखती है, पर कोई कुछ नहीं कर सकता. कई दिन भूली बस्ती में हाइवा लगा कर वहीं साइकिलों का कोयला लोड कर लिया जाता है. जानने वालों का कहना है कि एेसी कोयला चोरी कभी नहीं देखने को मिली.
निरसा में बड़े पैमाने पर अवैध खनन

À निरसा क्षेत्र के हरियाजाम, पंचेत, कालूबथान के कोलियरी क्षेत्रों में बीसीसीएल व इसीएल की बंद पड़ी कोयला खदानों से बड़े पैमाने पर कोयला का अवैध खनन जारी है. हरियाजाम थाना क्षेत्र में ‘एस राय’ नामक एक दबंग व्यक्ति द्वारा संचालित अवैध कोयला खदान में कुल नौ साझेदार हैं. इस सिंडिकेट को धनबाद के एक विधायक का संरक्षण प्राप्त है. इस क्षेत्र में नदी किनारे अवैध कोयला खदान का संचालन एक अन्य दबंग व्यक्ति ‘एम सिंह’ की देखरेख में हो रहा है. कालूबथान थाना क्षेत्र में दो निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के संरक्षण में धड़ल्ले से कोयला का अवैध खनन और बिक्री जारी है. एक अनुमान के अनुसार पिछले महीने में निरसा के विभिन्न इलाकों से करीब 9000 टन कोयले का अवैध कारोबार हुआ है. निरसा में भाजपा के एक अन्य रसूखदार नेता के करीबी संबंधी बड़े पैमाने पर कोयले के अवैध कारोबार से संलिप्त हैं. इस नेता के इशारे पर दिखावे के लिए पुलिस द्वारा एक अन्य दबंग कोयला कारोबारी ‘सिंह जी’ के डिपो में छापामारी कर खानापूर्ति कर ली गयी है.
À बीडीओ व मुखिया के पत्र पर भी नहीं हुई अवैध खनन स्थल की भराई : शिवलीबाड़ी उत्तर पंचायत के संजय नगर व अली मुहल्ला के समीप इसीएल की राजपुरा कोलियरी की खदान में सुरंग बनाकर बड़े पैमाने पर कोयला का अवैध खनन किया जा रहा है. उत्तर पंचायत के मुखिया मो सनोव्वर की लिखित शिकायत पर एग्यारकुंड के बीडीओ अनंत कुमार ने 18 अगस्त को इसीएल मुगमा क्षेत्र के जीएम को पत्र लिखकर अवैध खनन स्थल की भराई का आग्रह किया था. इसके बाद भी प्रबंधन ने कोई कदम नहीं उठाया. मुखिया व बीडीओ ने पत्र में आशंका जतायी है कि कभी भी अवैध खनन के दौरान बड़ा हादसा हो सकता है. खनन कर सुरंग का रूप दे दिया गया है, जो काफी खतरनाक हो गया. कभी भी चाल धंस सकती है. अवैध खनन स्थल पर महिला व बच्चे समेत 40-50 लोग हमेशा मौजूद रहते हैं. बीडीओ ने अनुमंडलाधिकारी को भी पत्र देकर इसकी जानकारी दी है.

बंगाल से प्रतिदिन 4000 टन कोयला पहुंच रहा है धनबाद
कोयला के अवैध कारोबार को लेकर मीडिया में खबरें आने के बाद कुछ जगहों में तात्कालिक तौर पर यह धंधा रूका है. धनबाद से लेकर राजधानी रांची तक बैठकों का दौर चला है. इन बैठकों में अवैध कोयला कारोबार से जुड़े लोग आगे की रणनीति तैयार करने में जुटे हैं. इस बीच सात सितंबर को उपायुक्त ए दोड्डे की अध्यक्षता मेें जिला खनन टास्क फोर्स की बैठक हुई, जिसमें जिले के विभिन्न क्षेत्रों में कोयला चोरी का मामला उठा. खासकर कालूबथान, मैथन, बलियापुर एवं सिंदरी क्षेत्र में कोयला चोरी पर रोक के लिए पुलिस को सख्त कार्रवाई करने को कहा गया. खबर छपने और प्रशासन की सख्ती के बावजूद विभिन्न हथकंडों से कोयला तस्करी जारी है.

डिस्को पेपर के सहारे भट्ठा व डिपो में होती है आपूर्ति

पुलिस व सफेदपोश की मिलीभगत से जारी है कारोबार

चोरी के कोयला का स्टॉक बढ़ने से कोल कारोबारी परेशान

पश्चिम बंगाल से चोरी का कोयला धनबाद के हार्डकोक, सॉफ्ट कोक भट्ठों और कोयला डिपो में खपाया जा रहा है. बंगाल के कोयला तस्करों का गिरोह धनबाद में पुलिस अधिकारियों व सफेदपोश लोगों की मिलीभगत से तीन-चार माह से जोर-शोर से धंधा चला रहा है. जानकारों की माने, तो बंगाल से प्रतिदिन करीब 4000 टन कोयला धनबाद पहुंच रहा है.

आधी रात के बाद आते हैं ट्रक : सूत्रों के मुताबिक पश्चिम बंगाल के वर्धमान व आसनसोल से आधी रात के बाद 12 चक्का वाले ट्रक बराकर पुल पार कर जीटी रोड से धनबाद पहुंच रहे हैं. धनबाद में निरसा, गोविंदपुर, बरवाअड्डा आदि थाना क्षेत्रों के भट्ठों व डिपो में कोयला खपाया जाता है. एक ट्रक पर 30-35 टन कोयला लोड रहता है. एक साथ बंगाल से कोयला लदे 15-20 ट्रकों का काफिला धनबाद सीमा में प्रवेश करता है. कोयला लदे ट्रकों को तस्करों का गिरोह फार्चूनर व इनोवा से स्कॉट कर धनबाद की सीमा में प्रवेश कराता है. मैथन से लेकर बरवाअड्डा ही नहीं, धनबाद जिले के कुछ अन्य थानों को भी बंगाल के ट्रकों की पासिंग दर मिल रही है. ट्रक चालकों के पास डिस्को पेपर रहता है. डिस्को पेपर दिखाने पर जीटी रोड केे थानों में ट्रकों की जांच नहीं होती है.

ऐसे हो जाता है दो नंबर का कोयला एक नंबर : बंगाल से आने वाले कोयला लदे ट्रकों का जीटी रोड के कांटा में वजन होता है. कांटा में वजन के बाद कोयला जीटी रोड के दर्जन भट्ठों में गिरता है. बरवाअड्डा, गोविंदपुर के आमघाटा व राजगंज तक चिमनी भट्ठा व डिपो में बंगाल का कोयला पहुंच रहा है. बंगाल में कोयला के अवैध कारोबार को सत्ताधारी दल के नेताओं का समर्थन मिला हुआ है. भट्ठा व डिपो संचालक कोलियरी से खरीदे गये कोयला के कागजात रखते हैं. धनबाद, बोकारो व रामगढ़ जिले की बीसीसीएल, सीसीएल व इसीएल की कोलियरी से तैयार डीओ पेपर के सहारे बंगाल का दो नंबर का कोयला धनबाद के भट्ठों व डिपो में गिरते ही एक नंबर हो जाता है. बंगाल के तस्करों को धनबाद की पुलिस की नहीं अवैध कोल कारोबार में चर्चित लोगों का सहयोग मिल रहा है.

बंगाल का राखा-तिवारी सिंडिकेट
बंगाल के कुख्यात कोयला तस्कर राखा व तिवारी का गिरोह ही कोयला की आपूर्ति करता है. यह गिरोह धनबाद में पूर्व में भी कारोबार करता रहा है. कुछ वर्ष पहले राखा व तिवारी गिरोह ने धनबाद से अपना कारोबार समेट लिया था. धनबाद के कारोबारियों से गिरोह की दुश्मनी हो गयी थी. धनबाद ही नहीं राखा गिरोह की सेटिंग रांची के आइपीएस अफसरों तक है. कुछ वरीय पुलिस अधिकारियों का पूर्व में भी कोयला से प्रेम रहा है. इन अधिकारियों की कोयलांचल ही नहीं, झारखंड के अन्य जिलों में भी पुरानी पकड़ है. ‘मनोज’ नामक कोयला कारोबारी वरीय पुलिस अधिकारी के लिए रकम वसूलता है. पूर्व में हजारीबाग व रामगढ़ क्षेत्र में सक्रिय रहा ‘मनोज’ वर्तमान में बंगाल से धनबाद तक सीधे जुड़ा हुआ है. ‘मनोज’ का धनबाद के ‘राय ग्रुप’ से भी बेहतर संबंध है. बंगाल के तस्कर राखा द्वारा सिंडिकेट में ‘राय ग्रुप’ को जोड़ लिया गया है.

फुफवाडीह व आमाघाटा में एन सिंह, एल जैन गिरोह सक्रिय
गोविंदपुर क्षेत्र में ‘एन सिंह’ व ‘एल जैन’ नामक कोयला तस्कर गिरोह सक्रिय है. गोविंदपुर के आमाघाटा व फुफवाडीह में इस गिरोह का काम चल रहा है. दोनों जगह अभी तीन से चार हजार टन कोयला का स्टॉक जमा है. गिरोह की ओर से कोलियरी का कागजात तैयार रखा जाता है. इस गिरोह को पुलिस के कुछ अधिकारियों की कृपा प्राप्त है. गिरोह से कई अन्य लोग परदे के पीछे से जुड़े हुए हैं. पुलिस अफसरों की नजर इस गिरोह पर विशेष रूप से फायदे के लिए है. गिरोह का फुफवाडीह में बंगाल के राखा का माल गिराया जाता है. आमघाटा में तिसरा, लोदना व आस-पास की आउटसोर्सिंग परियोजनाओं से हाइवा द्वारा रात में माल गिरता है. गोधर से सैकड़ों साइकिल से कोयला आमाघाटा में गिराया जाता है. ‘एन सिंह’ साइकिल से कोयला लेने वाला पुराना दागी है. कोयला के अवैध कारोबार पर उसकी बड़ी पकड़ है. धनबाद शहर से लेकर जीटी रोड तक ‘एन सिंह’ रात को अपनी निजी कार से चक्कर काटते रहता है.

सुमन गुप्ता के कार्यकाल में लगी थी कोयला तस्करी पर अंकुश
धनबाद एसपी के पद पर सुमन गुप्ता का करीब एक साल का कार्यकाल कोयलांचल के इतिहास में स्वर्ण काल माना जाता है. काजल की कोठरी में बेदाग निकलने वाली सुमन गुप्ता ने पहली बार धनबाद जिले में कोयला-लोहा तस्करों और दो नंबरी कारोबारियों पर सही मायने में लगाम लगी है. कोयला तस्करी की अधिकांश दुकानें बंद करायी. कोयला-लोहा तस्कर और दो नंबरी कारोबारी धनबाद से सटे बंगाल या फिर पड़ोसी जिले बोकारो व गिरिडीह में शरण लेने को मजबूर हुए. 19 अक्तूबर, 2009 को धनबाद एसपी के रूप में अपनी पदस्थापना के बाद सुमन गुप्ता ने कोयला के अवैध कारोबारियों के खिलाफ अभियान छेड़ दिया. श्रीमती गुप्ता के नेतृत्व में अवैध कारोबारियों के खिलाफ हुई कार्रवाई की जद में कई तस्कर व माफिया आये. पुलिस की सख्ती के कारण झरिया, निरसा व कतरास के कोयला क्षेत्रों में जारी कोयला के अवैध खनन पर काफी हद तक रोक लगी. धनबाद में सख्ती के बाद पड़ोसी राज्य बंगाल के कोयला क्षेत्रों में अवैध खनन का कारोबार तेज हुआ. कोयला के डिस्को पेपर (अवैध खनन से निकाले गये कोयला को वैध बतानेवाले जाली कागजात) के प्रमुख कारोबारी अल्ला राखा का संरक्षण प्राप्त था. धनबाद से सटे बंगाल के कोयला क्षेत्रों से अवैध तरीके से निकाला गया कोयला धनबाद के रास्ते बनारस-डिहरी समेत अन्य जगहों पर भेजा जाने लगा. इसके एवज में धनबाद के जीटी रोड के थानों को पासिंग के रूप में पैसे मिलते रहे. इस संबंध में जानकारी होने के बाद श्रीमती गुप्ता ने जीटी रोड पर अभियान चलाया. जीटी रोड के मैथन, निरसा, गोविंदपुर, बरवाअड्डा, राजगंज व तोपचांची थाना क्षेत्रों में 40 कोयला लदे ट्रक पकड़े गये. इसी दौरान तीन अक्तूबर, 2010 को अल्ला राखा भी धनबाद पुलिस की गिरफ्त में आ गया. सुमन गुप्ता के बाद बतौर एसपी रविकांत धान ने भी कोयला के अवैध कारोबार पर कड़ाई से रोक लगायी. श्री धान के नेतृत्व में कतरास इलाके में एक बड़ी अवैध कोयला खदान पकड़ायी थी.

मनोंरजन / फ़ैशन

रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप
रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप

धोखाधड़ी का यह मामला साल 2016 का बताया गया है एक प्रॉपर्टी डीलर ने रेमो डिसूजा पर 5 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया था सेक्शन 420, 406, 386 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई गाजियाबाद । डांस की दुनिया के ग्रेंड मास्टर में शुमार मशहूर कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा के लिए एक बुरी…

Read more

अन्य ख़बरे

Loading…

sandeshnow Video


Contact US @

Email: swebnews@gmail.com

Phone: +9431124138

Address: Dhanbad, Jharkhand

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com