Deprecated: wp_make_content_images_responsive is deprecated since version 5.5.0! Use wp_filter_content_tags() instead. in /home/sandeshnow/public_html/wp-includes/functions.php on line 4778
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
संदेश ! हमारी सोच, आपकी पहचान !
27 Jan 2021 5:44 PM
BREAKING NEWS
ticket title
धनबाद में दो अतिरिक्त कोविड अस्पताल को मिली मंजूरी, पीएमसीएच कैथ लैब में दो सौ बेड का होगा कोविड केयर सेंटर
सांसद पुत्र के चालक की कोरोना से मौत, 24 घंटे में दो मौत से मचा हड़कंप
बेरमो से हॉट स्पॉट बने जामाडोबा तक पहुंचा कोरोना ! चार दिन में मिले 34 कोविड पॉजिटीव
विधायक-पूर्व मेयर की लड़ाई की भेंट चढ़ी 400 करोड़ की योजना
वाट्सएप पर ही पुलिसकर्मियों की समस्या हो जाएगी हल, एसएसपी ने जारी किया नंबर
CBSE की 10वीं और 12वीं परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे
डीजल मूल्यवृद्धि का असर कहां,कितना,किस स्तरपर,किस रूप में पड़ेगा- पढ़े रिपोर्ट
झरिया विधायक से मिलने पहुंचे छोटे व्यवसायियों
पेट्रोलियम पदार्थ को लेकर झामुमो द्वारा विरोध प्रदर्शन
बिहार में आंधी-बारिश, ठनका गिरने से 83 लोगों की मौत

ऑनलाइन लैंड रिकॉर्ड सिस्टम फेल, सरकार की गलत रणनीति की वजह से हुआ ऐसा

Post by relatedRelated post

राज्य में जमीन का सारा सिस्टम ऑनलाइन होगा. घर बैठे लोग रसीद काट सकेंगे. मयूटेशन के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी. कुछ ऐसा ही सोच कर राज्य में सरकार ने जमीन से जुड़े सारे मामले को ऑनलाइन करा दिया. लेकिन, हालात राज्य भर के ऐसे हैं कि म्यूटेशन 10 फीसदी ही हो पा रहा है. रसीद कट नहीं पा रही है. राज्य की जनता परेशान है. ना कुछ अधिकारी कर पा रहे हैं और ना ही सरकार मामले में रुची लेकर सिस्टम को ठीक करने की कोशिश कर रही है. ऐसा सब सरकार की गलत रणनीति की वजह से हो रहा है.

आखिर क्या है परेशानी
जमीन से जुड़े सारे मामले को ऑनलाइन कराने के लिए पहले सर्वे कराया गया. फिर एक सॉफ्टवेयर डेवलप कर सारा प्रोसेस ऑनलाइन करा दिया गया. सर्वे में रिकॉर्ड तो सरकार के पास ऑनलाइन हो गए. लेकिन खतियान का ऑनलाइन रिकॉर्ड नहीं बन पाया. दरअसल, झारखंड के ज्यादातर जिले के खतियान रखे-रखे सड़ चुके हैं. उनमें दीमक लग चुका है. ऐसे में उन्हें पढ़ा या समझा जाना मुमकिन नहीं है. इसलिए इसका रिकॉर्ड नहीं बन पाया. अब सरकार ने नयी स्कीम के तहत ऑनलाइन रसीद काटने वक्त खतियान को टैग कर दिया है. जैसे ही रसीद काटने के लिए प्रोसेस शुरू होता है. सॉफ्टवेयर खतियान की जानकारी साझा करने को कहती है. जो रिकॉर्ड में है ही नहीं. ऐसे में लोग अपना बकाया देख तो सकते हैं. लेकिन उसे अदा नहीं कर सकते और रसीद नहीं कटा सकते.

जीएम लैंड बचाने के लिए किया ऐसा, लेकिन रणनीति गलत
सरकार ने ऐसा इसलिए किया ताकि जीएम लैंड की रसीद लोग ना कटवा सके. लेकिन, ऑनलाइन स्कीम सही तरह से कारगर साबित नहीं हो पाया. सरकार चाहती तो पहले की ही तरह जितनी भी जीएम लैंड हैं उसे अंचल स्तर से ही उसके रिकॉर्ड को लॉक करवा देती. जैसे ही कोई जीएम लैंड की रसीद कटवाने की कोशिश करता तो वो रिकॉर्ड आता ही नहीं. ऐसे में जीएम लैंड भी बचती और सही रैयतों को परेशानियों भी दूर हो जाती.

वरिष्ठ सीआई और राजस्व कर्मी से सरकार का कम्यूकेशन गैप
जमीन का मामला शुरू से ही काफी पेचीदा माना जाता है. इसे पूरी तरह से समझने में एक आम आदमी को कापी परेशानी होती है. सरकार ने झारखंड बनने से बाद से ही कभी अंचल स्तर पर या ब्लॉक स्तर पर काम करने वाले वरिष्ट सीआई या राजस्व कर्मी के साथ मिलकर कोई सेमिनार किया ही नहीं. सरकार की तरफ से हर बार फरमान की तरह रणनीति थोपी जाती रही है. जिसे जमीनी हकीकत देने वाले सीआई और राजसस्व कर्मियों को काफी परेशानी होती है. ऑनलाइन सिस्टम बहाल करने से पहले भी सरकार ने ना ही किसी तरह का कोई सेमिनार किया और ना ही सीआई और राजस्व कर्मियों को सही तरह की ट्रेनिंग दी गयी.   

झारखंड में नहीं है बिहार की तरह व्यवस्था
जिला स्तर पर जमीन मामले को लेकर सबसे बड़ा अधिकारी एसी यानि एडिशनल कलेक्टर होता है. वो एसी बनने से पहले या तो डीटीओ (जिला परिवहन अधिकारी), एसडीओ (जिला खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी), नगर आयुक्त या फिर किसी और पद पर होते हैं. ऐसे में एसी बनने के बाद जमीन से जुड़ा मामला समझने में ही उन्हें काफी समय लग जाता है. झारखंड में बीडीओ सीओ बन जाता है और सीओ साहब बीडीओ बन जाते हैं. एक ही सेक्टर में प्रमोशन ना होने की वजह से लोगों के काम और विकास पर काफी असर पड़ता है. बिहार ने झारखंड से अलग होते ही अपना पैटर्न बदल दिया है. किसी भी अधिकारी का प्रमोशन बिहार में एक ही सेक्टर में होता है. वहां नियुक्ति के लिए भी बीपीएससी की तरफ से विभागवार आवेदन निकाला जाता है. ऐसे होने से एक सेक्टर में अधिकारी अच्छा काम कर पाते हैं.

मनोंरजन / फ़ैशन

रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप
रेमो डिसूजा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी, 5 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप

धोखाधड़ी का यह मामला साल 2016 का बताया गया है एक प्रॉपर्टी डीलर ने रेमो डिसूजा पर 5 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया था सेक्शन 420, 406, 386 के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई गाजियाबाद । डांस की दुनिया के ग्रेंड मास्टर में शुमार मशहूर कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा के लिए एक बुरी…

Read more

अन्य ख़बरे

Loading…

sandeshnow Video


Contact US @

Email: swebnews@gmail.com

Phone: +9431124138

Address: Dhanbad, Jharkhand

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com